Related Top Articles

ऑरोरा क्या और कहाँ दिखाई देता है ?

  • 0
  • 82

Hello world

ऑरोरा क्या और कहाँ दिखाई देता है ?

.

ऑरोरा पृथ्वी के दोनों ध्रुवों पर मुख्य रूप से उच्च अक्षांश क्षेत्रों (आर्कटिक और अंटार्कटिक) में आकाश में प्रकाश का एक प्रदर्शन है। इसे ध्रुवीय प्रकाश (Polar Lights) के रूप में भी जाना जाता है। यह आमतौर पर उच्च उत्तरी और दक्षिणी अक्षांशों पर होते हैं, मध्य अक्षांशों पर कम और भूमध्य रेखा के पास शायद ही कभी देखा जाता है। उत्तरी लाइट्स, जिसे ऑरोरा बोरेलिस कहते हैं, आमतौर पर इसे ध्रुवीय क्षेत्रों या यूरोप के उच्च अक्षांश क्षेत्रों में देखा जा सकता है। जबकि ऑरोरा ऑस्ट्रालिस को दक्षिणी लाइट्स कहते है और यह दक्षिणी अक्षांशों पर दिखाई देती है। यह पृथ्वी से करीब 100 से 400 किमी से अधिक की ऊंचाई पर दिखाई देते हैं। प्रकाश का रंग ज्यादातर एक दूधिया हरा रंग, लाल, नीला, बैंगनी, गुलाबी और सफेद दिख सकता है। ये रंग लगातार बदलते आकार में दिखाई देते हैं। सामान्य तौर पर ये रात के समय या सूर्योदय से ठीक पहले दिखाई देता है। इस अद्भुत प्राकृतिक नजारे को विश्व के अजूबों में गिना जाता है।

.

वैज्ञानिकों ने अध्ययन में पाया है कि ऑरोरा की उत्पत्ति इलेक्ट्रॉन और प्लाज़्मा तरंगों के परस्पर मिलने से होती है। इलेक्ट्रॉन और प्लाज़्मा तरंगों के परस्पर मिलने की यह प्रक्रिया पृथ्वी के बाहरी वातावरण के मैग्नेटोस्फेयर में होती है। मैग्नेटोस्फेयर के इलैक्ट्रिक कण ग्रह के चुम्बकीय क्षेत्र से नियंत्रित होते हैं।

इसके उत्पति का भौतिक कारण का पता लगाने वाले वैज्ञानिकों के अनुसार, जैसे ही मैग्नेटोस्फेयर में परिवर्तन होता है वैसे ही सौर वायु ऊर्जा निकलती है। इस सौर वायु ऊर्जा की वजह से ऑरोरल सबस्टॉर्म उत्पन्न होता है। मैग्नेटोस्फेयर में आए परिवर्तन से खास किस्म की प्लाज़्मा तरंगें निकलती हैं, जिन्हें कोरस तरंग भी कहा जाता है। इन तरंगों से पृथ्वी के बाहरी वातावरण में इलेक्ट्रॉन की बारिश होती है जिस वजह से ध्रुवों पर कई रंगों के मिश्रण से रंगीन प्रकाश की उत्पत्ति होती है।

.

ऑरोरा का रंग गैस पर निर्भर करता है कि उसमें किस गैस द्वारा अभिक्रिया हो रही है ऑक्सीजन या नाइट्रोजन तथा इलेक्ट्रान कि गति क्या है और उनकी टक्कर के समय कितनी ऊर्जा है। उच्च ऊर्जा इलेक्ट्रॉनों के कारण ऑक्सीजन हरे रंग की रोशनी का उत्सर्जन करती है, जबकि कम ऊर्जा वाले इलेक्ट्रॉन लाल प्रकाश का कारण बनते हैं। नाइट्रोजन आमतौर पर एक नीली रोशनी को बंद कर देता है। इन्हें अलास्का, ग्रीनलैंड और कनाडा में सबसे अधिक बार देखा जा सकता है। हालांकि, उन्हें पृथ्वी पर कई अन्य स्थानों से भी देखा जा सकता है।

.

Visit us @ www.justlearning.in

.

.

#aurora #earth #magnetosphere #polarlights #auroraaustralis #sky #education #virtuallearning #skillshare #k12 #education #justlearning


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!