Related Top Articles

टिप्स, जो बच्चों को मैथ पढ़ने के लिए प्रेरित करें

  • 0
  • 1

Hello world

टिप्स, जो बच्चों को मैथ पढ़ने के लिए प्रेरित करें

मैथ कई छात्रों के लिए चुनौतीपूर्ण होता है, खासकर उनके लिए जो मैथ के कॉन्सेप्ट्स को समझने की क्षमता और आत्मविश्वास की कमी रखते हैं।
हालांकि, कम उम्र में इस यूनिवर्सल भाषा के प्रति प्रेम क्लास के अनुभवों को बेहतर बनाने और बच्चों के आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद करता है। मस्तिष्क विकास के शुरुआती चरणों के दौरान बच्चे मैथ को लेकर स्वाभाविक रूप से उत्सुक होते हैं, जो उनमें सीखने के अनुभवों को एक सकारात्मक और बेहतरीन अवसर प्रदान करता है। बच्चों को मैथ सीखने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए टीचर और पैरेंट इन युक्तियों का उपयोग कर सकते हैं।

1 -रियल-वर्ल्ड लर्निंग को शामिल करें-
क्लास के बाहर की दुनिया को क्लासरूम के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। ताकि छात्रों को स्कूल की दीवारों के बाहर मैथ स्किल के महत्व को देखने और विषय से जुड़ने में मदद मिल सके। मैथ हमारे रोजमर्रा की जिंदगी में मौजूद है, जैसे - शॉपिंग, बिलिंग, बैंकिंग, ड्राइविंग या ट्रैफिक सिग्नल पर इंतज़ार करते समय। अपने आसपास की दुनिया को देखते हुए बच्चों को काउंटिंग स्किल का प्रैक्टिस करने के लिए प्रोत्साहित करें।
2 - ज्यामिति का अभ्यास पैटर्न में करें-
आकार और पैटर्न भी गणित सीखने में मदद कर सकते हैं। पैटर्न बनाने के लिए आकार ब्लॉक का उपयोग कर आकार सीखना काफी मजेदार हो सकता है। आकार ब्लॉक ज्यामिति की मूल बातें समझने के लिए एक व्यावहारिक दृष्टिकोण है और छात्रों को रचनात्मक रूप से चुनौती दे सकता है। उदाहरण के लिए यदि बच्चों को पैटर्न का प्रयोग कर उसे इमेज में बदलने लिए कहा जाये।
3 - मैथ आधारित गेम का उपयोग करें -
यदि किसी छात्र का मन मैथ में नहीं लगता है, तो वो बहुत लंबे समय तक विषय के साथ जुड़ा नहीं रह सकता है। ऐसी में गणित के मूल सिद्धांतों को सीखते समय स्टडी और गेम के बीच संतुलन बनाये रखना जरूरी है, ताकि सीखने की प्रक्रिया कम से कम तनावपूर्ण हो। स्कूल में पहेली, ब्रेन टीज़र या कोई आसान बोर्ड गेम के माध्यम से मैथ सीखने के प्रक्रिया को उत्साहपूर्ण बना सकते हैं। जैसे-जैसे छात्र बड़े होते हैं, चेकर्स, शतरंज, बैकगैमौन, डोमिनोज़, क्रिबेज, मोनोपोली और सेट जैसे गेम उनके मैथ स्किल को बढ़ाने में मदद करते है।
4 -मैथ आधारित पुस्तकें पढ़ें-
वे छात्र जिन्हे मैथ आधारित पुस्तकें पढ़ना स्वाभाविक रूप से पसंद हो, वे बहुत आसानी से दो विषयों में एक स्पष्ट सम्बन्ध बना सकते हैं। ऐसी कई पुस्तकें उपलब्ध है जिनके कहानी के मुख्य कलाकार समस्या का हल निकालने के लिए मैथ या लॉजिक का इस्तेमाल करते है। ये पुस्तकें बच्चों को मैथ पढ़ने के लिए प्रेरणादायक साबित हो सकती है।
5 -सकारात्मक व सार्थक प्रतिक्रिया दें-
उन माता-पिता के लिए, जिन्हें दिन की चुनौतियों से निपटने के बाद अपने बच्चे को मैथ के होमवर्क में मदद करनी होती है, उनके लिए इसे सकारात्मक दृष्टिकोण से देखना लगभग असंभव है। हालांकि, मैथ को लेकर माता-पिता के दृष्टिकोण और भावनायें बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह बच्चों के मैथ सीखने की क्षमता को बहुत प्रभावित करता है।
मैथ प्लस एकेडमी के संस्थापक, राज शाह बताते हैं कि भले ही माता-पिता स्वयं मैथ को लेकर गंभीर ना हो, लेकिन उनके सकारात्मक प्रतिक्रिया बच्चे के संज्ञानात्मक विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
क्योंकि एक बच्चे को सबसे अधिक फायदा तब होता है जब माता-पिता शिक्षक से अधिक प्रेरक या प्रशिक्षक की भूमिका निभाते हैं। माता-पिता उन बेसिक रणनीतियों पर ध्यान देकर दोहराने के आदत को दूर कर सकते हैं जो बच्चें मैथ के कांसेप्ट को समझने के लिए बार-बार उपयोग करते है।
 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!