Related Top Articles

Nasa के जेम्स वेब टेलिस्कोप ने भेजी आकाशगंगा की रोमांचक तस्वीरें

  • 0
  • 1

Hello world

हर किसी को ब्रह्मांड के बारे में जानने की दिलचस्पी है। सितारें, ग्रह, आकाशगंगा, चांद और सूरज जैसी चीजों से जुड़ी जानकारी लोगों को हैरान करती हैं। वैज्ञानिक दिन-रात इसी से जुड़ी रिसर्च में लगे रहते हैं। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने ब्रह्मांडीय इतिहास के हर फेज की स्टडी करने के लिए जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप को तैयार किया है। जिसने लांच होने के बाद पहली बार अपनी काबिलियत दिखाते हुए आकाशगंगा की बेहद खूबसूरत और रोमांचक तस्वीरें भेजी है।

नासा के अनुसार जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप, जो जल्द ही हबल की जगह लेगा। उसने हमारी मिल्की वे के एक पड़ोसी उपग्रह आकाशगंगा की कुछ हैरान करने देने वाली इमेज कैप्चर की है। टेलिस्कोप की टेस्टिंग के दौरान खींची गई तस्वीरों को नासा ने अपने ट्विटर पर शेयर किया है। इमेज GIF एक धुंधली तस्वीर को साफ करता है और टिमटिमाते सितारों की तरह ग्रहों को दिखाता है।

जेम्स वेब अब तक का सबसे शक्तिशाली टेलिस्कोप है और हबल टेलिस्कोप की जगह लेगा, जो नासा के प्रमुख खगोल भौतिकी मिशन के संचालन के बाद, जून 2022 के अंत के आसपास निर्धारित है। यह टेलिस्कोप एक इंफ्रारेड एस्ट्रोनॉमी स्पेस टेलिस्कोप है। इसका इन्फ्रारेड रिजॉल्यूशन काफी अधिक है। टेलिस्कोप की इन्फ्रारेड टेक्निक इसे 13.5 अरब साल पहले बने पहले सितारों और आकाशगंगाओं को देखने में मदद करता है।

बता दें कि नए टेलिस्कोप का प्राइमरी मिरर 18 हेक्सागोनल गोल्ड-प्लेटेड बेरिलियम मिरर सेगमेंट से बना है, जो हबल के 2.4 मीटर की तुलना में एक साथ 6.5-मीटर व्यास का मिरर बनाते हैं। वेब टेलिस्कोप का लाइट कलेक्शन एरिया लगभग 25 वर्ग मीटर है, जो हबल के लगभग 6 गुना है। नासा ने जेम्स वेब को 25 दिसंबर 2021 को फ्रेंच गुयाना से एरियन-5 रॉकेट के जरिए लॉन्च किया था।

.

.

#NASA #Rocket #telescope #research #technique #K12 #onlinelearning #explore #knowledge #justlearning


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!